xxx मूवी देख कर मौसेरी बहन की चुदाई में उसकी गांड मारी

वो थोड़ी देर में मेरे पास आई, मेरी बगल में बैठ गई और xxx मूवी देखने लगी.
अब मैंने कहा- अब ठीक है, अब हम दोनों एक साथ देख पायेंगे.
लेकिन उसने मुझे दिखाने से मना कर दिया.
पर बाद में मान गई और साथ में xxx मूवी देखने लगी.

थोड़ी देर बाद मैंने कहा- लेट कर देखते हैं.
उसने कहा- ओके!
हम दोनों लेट कर xxx मूवी देखने लगे..

xxx मूवी देखा कर मुझे जोश आने लगा, मैंने उसे कहा- मेरी बाजू पे सिर रख ले!
उसने वैसे ही किया.
फिर मैंने पूछा- मजा आ रहा है तुझे?
उसने कहा- हाँ!
अब मैंने उसका हाथ अपने हाथ में ले लिया और सहलाने लगा.

मेरी बहन भी गर्म हो रही थी, मैंने सही मौक़ा देख कर उसकी चुची पर हाथ रख दिया और बोला- मोबाइल उधर रख दे… चल कुछ प्रेक्टिकल करते हैं!
और मैं अपनी बहन की चूची दबाने लगा.
मेरी बहन बोली- यह गलत है.
मैंने कहा- कुछ गलत नहीं है..
और मैं बड़े प्यार से अपनी बहन की चूची सहलाने लगा.

अब वो भी मस्त हो रही थी तो मैं वक्त बरबाद ना करते हुए उसकी चुत पर हाथ फेरने लगा. उसे मजा आने लगा, मैंने उसकी कैपरी में हाथ घुसा दिया और पेंटी के ऊपर से उसकी चुत को सहलाने लगा.
उसकी सिसकारियाँ निकलने लगी भैया.. उम्म्ह… अहह… हय… याह…!
वो अपनी टाँगे हिला रही थी.

अब मैंने उसके टॉप को ऊपर सरकाया, उसने ब्रा नहीं पहनी थी, मैंने अपने होंठ अपनी बहन की चूची पे रखा दिए और चूसने लगा.
मेरी बहन अपनी चुची चुसाई का खूब मजा ले रही थी.

मैंने उसे कहा- हमने यश किया है, यह बात किसी को बताना मत!
फिर मैंने कहा- मैं तुम्हारी चुत चूसूं?
उसने हाँ की तो मैंने उसकी कैपरी उतार दी, फिर पेंटी भी उतार दी.

मेरी बहन की चूत पर छोटी छोटी जानतें थी, उसने कुछ ही दिन पहले अपनी झांटें साफ़ की होंगी.

मैंने उसकी कैपरी से अपनी बहन की चुत साफ़ की क्योंकि वो गीली थी. फिर मैंने अपनी बहन की टाँगें चौड़ी की और पहले बहन की चुत को सूंघा.. बड़ी मनमोहक खुशबू आ रही थी, मैंने तुरंत चुत पर अपने होंठ रख दिए और जीभ से चुत चाटने लगा. मेरी जीभ उसकी चुत के अंदरूनी होंठों पर चल रही थी.

उसे बहुत मजा आ रहा था, वो अपने चूतड़ उछल रही थी, सिसकारियाँ भर रही थी- हाँ भैया… करो… मजा आ रहा है…
मेरी बहन की चुत का स्वाद कुछ अजीब सा था, उसमें से लिसलिसा सा पानी आ रहा था.

कुछ देर बाद मैंने उसे कहा- अगर तुम कहो तो मैं अपना अंदर डालूं?
तो उसने कहा- नहीं!
तो मैं फिर से अपनी बहन की चुत चूसने लग पड़ा. थोड़ी देर में वो खूब मचलने लगी, चूतड़ उछालने लगी और सिसकारियाँ भर भर कर झड़ गई.
उसे झड़ते देख कर मेरा लंड अपने आप ही झड़ गया क्योंकि मैं भी ये सब करके काफी गर्म हो गया था.
फिर भी मैंने उसे कुछ नहीं बताया, बल्कि कहा- यार तेरा काम तो हो गया… मेरा रहा गया, अब मैं क्या करूँ?
उसने कहा- कल हम कुछ करेंगे!
और इतना कहा कर दूसरे कमरे में चली गई.

अगले दिन मैं रात होने की प्रतीक्षा करता रहा, आखिर रात हुई, खाना वगैरा खा कर वो अपने कमरे में चली गई तो मैं अपने कमरे में आ गया.
थोड़ी देर बाद मैंने उसे बुलाया, कहा – आ जा xxx मूवी देखते हैं!
वो आ गई और हम भी बहन xxx मूवी देखने लगे.
एक दो मिनट बाद ही मैंने अपना हाथ उसकी चुत पर रख दिया और उसे गर्म करने लगा.
साथ ही मैंने उसकी शर्ट उतरवा दी और उसकी चुची चूसने लगा.

फिर मैंने खा- मेरे पास कंडोम है, तू कहे तो आज उसे यूज करूं?
उसने कहा- मेरे बॉयफ्रेंड को पता चल जाएगा?
मैंने कहा- नहीं पता चलेगा! बस तू मत बताना!
मेरी बहन ने मुझे बताया कि उसने अपने बॉयफ्रेंड से भी कभी चुत नहीं मरवाई है, वो उसे सिर्फ गांड चोदने देती है, क्योंकि वो अपनी चुत अपने पति के लिए कुँवारी रखना चाहती है.
मैंने कहा- ठीक है मेरी बहना, मैं भी तेरी गांड ही मारूंगा.
और उसकी पेंटी उतार दी, कंडोम उसको दे दिया.

उसने पैकेट फाड़ा, स्ट्राबेरी फ्लेवर का कंडोम था, मेरी बहन कंडोम सूंघने लगी.
मैंने उससे कंडोम निकालने को कहा, मेरी बहन ने कंडोम निकाला तो मैंने उससे लेकर अपने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया.
बहन की चुदाई की यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

मैंने अपनी बहन को पूरी नंगी किया और उसे घूम कर उसकी गांड मेरी ओर करने को कहा.
वो अपनी गांड मेरी तरफ करके घोड़ी बन गई, मैंने उसकी गांड में उंगली डाली, मेरी बहन की गांड ज्यादा कसी नहीं थी, लगता था उसने काफी गांड मरवाई थी अपने यार से…
मैंने अपना लंड उसकी गांड के छेद पर लगाया और अंदर को पुश किया तो मेरा लंड आराम से मेरी बहन की गांड में घुस गया. उसको थोड़ा दर्द हुआ और उसके मुख से उम्म्ह्ह निकल गया.
पर उसने मुझे रोका नहीं और मैं अपनी बहन की गांड मारने लगा.

मैंने उसकी चुची पकड़ कर काफी देर उसे चोदता रहा और तब मैं झड़ गया.
झड़ने के बाद मैंने अपना लंड बहन की गांड से निकाला और कंडोम उरात के एक कागज़ में लपेट कर डस्ट बिन में फेंक दिया.

उसके बाद मैंने काफी देर तक अपनी बहन को प्यार किया, उसके नंगे बदन को चूमा चाटा.
मेरी बहन भी काफी खुश थी.
उसके बाद मैंने अपनी बहना की चूत चाट कर उसे पूरा मजा देकर चरम आनन्द तक पहुंचाया और उसके बाद हम सो गए.

मेरी बहन की चुदाई पर अपने विचार मुझे निम्न इमेल पर भेजें!
[email protected]